chandrakala gujiya,

आवश्यक सामग्री

मैदा 2 कप
घी एक चौथाई कप गुनगुना , मोयन के लिए
मगज /खरबूजे के बीज डेढ़ टेबल स्पून
काजू 20
बादाम 20
पिस्ता 25
मावा 150 ग्राम
चीनी दो कप चाशनी के लिए

विधि

  1. चाशनी वाली चन्द्रकला गुझिया बनाने के लिए सबसे पहले एक बर्तन में मैदा लें और इसमें गुनगुना घी डडालकर अच्छे से मिलते हुए मिक्स कर लें | अब इसमें थोड़ा थोड़ा हल्का गरम पानी डालकर इसका एक टाइट डो बना लें | इसमें एक साथ पानी ना डालें नहीं तो ये पतला भी हो सकता है इसे अच्छे से गूंधकर चिकना कर लें | अब इसे आधे घंटे के लिए ढककर रख दें इस आटे को गूंधने में बड़ा आधा कप पैन लगा है |
  2. इसकी सस्टफ्फिंग बनाते है गर्म पैन में खरबूजे के बीज डालकर चलाते हुए भुने हल्की आंच पर हल्का सुनहरा कलर आने तक रोस्ट कर लें | फिर इसे एक प्लेट में निकाल लें अब पैन में दो टीस्पून देसी घी डालें फिर इसमें काजू , बादाम और पिस्ता डालकर हल्का सुनहरा होने तक फ्राई कर लें | फिर इसे भी प्लेट में निकाल लें |
  3. पैन में मावा डालकर धीमी आंच पर हल्का सुनहरा होने तक फ्राई कर लें | जब ये सुनहरे कलर का हो जाये तो इसे एक बड़े बाउल में ठंडा होने के लिए रख दें बाद में इसी बाउल में स्टफ्फिंग की साडी चीज़े डालेंगे | काजू, बादाम और पिस्ता को बारीक – बारीक काट लें आप चाहे तो मिक्सी में हल्का सा घुमा लें |

4 दो कप चीनी में एक कप पानी डालकर तेज आंच पर रख दें | चीनी घुलने तक इसे बराबर चलते हुए पकाये हल्की आंच पर 5 से 7 मिनट पकाकर चेक करे | अगर ये चिपचिपी हो गयी है तो गैस को बंद कर दें पर इसे ढककर रख दें

  1. स्टफ्फिंग बनाने के लिए मावे में काजू,बादाम, पिस्ता, मगज ,किशमिश , छोटी इलायची पाउडर और बूरा चीनी डालकर सारी चीजों को अच्छे से मिक्स कर लें अब हमारी स्टफ्फिंग तैयार है |
  2. दो चम्मच मैदे में पानी डालकर इसका पतला घोल बना लें| इसको गुझिया के किनारों को चिपकने के लिए इस्तेमाल लरते है | इतने समय में हमारा आटा अच्छे से तैयार हो जाता है| आटे को दो से तीन बार मसलते हुए चिकना कर लें |
  3. अब इसकी छोटी -छोटी लोई बनाकर तैयार कर लें और ढककर रख दें | अब एक लोई निकलकर बेल लें जैसे हम घर में नार्मल गुझिया बनाते है इसे उससे थोड़ा सा मोटा बेल लें ताकि यह चाशनी की अच्छे से सोख लें |
  4. दो लोई को बेलकर तैयार कर न अब एक छोटे और बड़े कुकी कटर से कट कर लें गोलाई में बचे हुए आटे को एक तरफ रख दें | अब बड़ी वाली पूरी को एक चम्मच स्टफ्फिंग भर दें इसको एकदम सेंटर में रखे इसके किनारों पर मैदे का घोल लगा दें |
  5. अब इसके ऊपर छोटी वाली लोई रखकर किनारों को अच्छी तरह से चिपका दें अब बड़ी वाली पूरी के ऊपर की तरफ हल्का सा किनारा मोड़ें फिर पिंच करे और फोल्ड करे इसी तरह से चन्द्रकला गुझिया बनाकर तैयार कर लें इसी तरह से और गुझिया बनाकर तैयार कर लें |
  6. अब बाकि आटे से लम्बी गुझिया बनाये इसके लिए पूरी बेल लें नार्मल गुझिया की पूरी से थोड़ी दी मोती बेल लें | अब इसके बीच में डेढ़ चम्मच स्टफ्फिंग रखे इसके आधे भाग में मैदे और पानी का घोल लगाए और दूसरे किनारे को घोल वाले में चिपका दें | चिपकने के बाद इसे भी इसी तरह से पिंच करे और बाहर आये आटे को अंदर की तरफ फोल्ड करे | इसी तरह से गुझिया को अच्छे से सील कर दें बाकि की सारी गुझिया इसी तरह से बनाकर त्यार कर लें |
  7. गुझिया फ्राई करने के लिए तेल गर्म होने के लिए रख दें जबतक तेल गर्म हो रहा तबतक चाशनी को भी गर्म कर लें | चाशनी में थोड़ी से केसर डालकर अच्छी तरह से मिला लें और उबाल आने से पहले गैस बंद कर दें |
  8. तेल में आटे की एक छोटी सी गोली डालकर देखे कि तेल अच्छे से गर्म हुआ है या नहीं अगर गोली एकदम से ऊपर नहीं आती है तो आप समझ जाये की तेल सही से गर्म हो चुका है |
  9. इसको तलने के लिए हमें तेल ज्यादा गर्म नहीं चाहिए इन्हे हम मीडियम गर्म तेल में तलेंगे | जितनी चन्द्रकला तेल में आ जाये उतनी डालकर हल्का सुनहरा तक तलें | पहले तो धीमी आंच पर तलें अगर आपको बीच में लगे कि तेल ज्यादा ठंडा हो गया है तो आंच मीडियम कर दें |
  10. मीडियम आंच पर जब तेल थोड़ा ज्यादा गर्म हो जायेगा तो उसे फिर से काम कर दें | धीमी आंच पर ही इनको तलें ताकि ये अंदर और बाहर दोनों तरफ से अच्छे से पक जाये |जब ये एक साइड से सिक जाएँगी लेकिन अनादर से इनका आटा कच्चा रह जायेगा | इसलिए आप इनको धीमी और मीडियम आंच पर तलें |
  11. इसको तलते समय एक बात का खास ध्यान रखे की इनको कभी तेज आंच पर न पकाये| क्योंकि इनके ऊपर की लेयर तो सिक जाएगी लेकिन अंदर से इनका आटा कच्चा रह जायेगा |
  12. दोनों तरफ से सुनहरा होने पर निकालकर टिसू पेपर पर रखे | ताकि इनका एक्स्ट्रा आयल निकल जाये दो से तीन मिनट ठंडा होने के बाद इन्हे चाशनी में डालकर अच्छे से कोट कर लें |
  13. कोट करने के बाद इन्हें तीन से चार मिनट चाशनी में डूबा रहने दें | तीन से चार मिनट के बाद निकालकर एक प्लेट में रख दें इसी तरह से बाकि चन्द्रकला को भी तल कर चाशनी से कोट कर लें अब हमारी चन्द्रकला बनकर तैयार है |

By Diksha Kushwaha

Hi , My Name is Diksha Kushwaha. I love to write beauty tips content and food recipes.